आटोमैटिक मशीन से सुधरेगी यातायात व्यवस्था।

गोरखपुर ब्यूरों। शहर को जाम से मुक्ति दिलाने के लिए हर रोज एक न एक प्रयोग यातायात पुलिस द्वारा किया जा रहा है।इसी बिच खबर मिली है कि
मेट्रो शहर की तर्ज पर शहर की यातायात व्यवस्था को दुरुस्त करने के लिए जिला प्रशासन ने कवायद शुरू कर दी है। यहां 2.8 करोड़ की लागत से इंटीगे्रटेड ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम लगाया जाएगा। इस सिस्टम से चौराहों पर आटोमेटिक ट्रैफिक सिग्नल तो लगाए ही जाएंगे साथ ही हाई पॉवर कैमरे भी लगेंगे।
ऐसे में अगर यहां सिग्नल लाल होने पर किसी ने क्रासिंग लाइन पार की तो कैमरा वाहन को कैप्चर कर लेगा और कंट्रोल रूम में बैठा कर्मी जूम की मदद से वाहन नम्बर निकाल कर चालान घर भेज देगा। साथ ही मोबाइल पर चालान कटने की सूचना भी देगा।यह सिस्टम वैसे तो शहर के 18 चौराहों व तिराहों पर लगाए जाएंगे लेकिन पहले चरण में जिला प्रशासन ने फिहलाह आठ चौराहों को चुना है। इन सभी चौराहों पर एक सप्ताह के अंदर काम शुरू करा दिया जाएगा। चयनित सभी चौराहों पर आटोमेटिक सिग्नल तो लगेंगे ही साथ ही हाई पॉवर सर्विलांस कैमरे भी लगाए जाएंगे। लोगों को असुविधा न हो इसके लिए स्टाप टाइमिंग कम रखा जाएगा ताकि लोग तुरंत-तुरंत निकलते रहें।
इंटीगे्रटेड ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम (आईटीएमएस) छह अलग-अलग भाग में बंटा रहेगा। इसमें सबसे पहले एडाप्टिव सिग्नल सिस्टम होगा जो चौराहों पर लगा होगा। उसके बाद हाई पॉवर सर्विलांस कैमरे भी चौराहे पर ही लगाए जाएंगे। तीसरा सबसे महत्वपूर्ण हाईब्रिड पॉवर सोर्स कंट्रोल रूम में लगा रहेगा जो सिग्नल का लेन-देन करेगा। चौथा सेंट्रलाइज्ड मॉनीटरिंग होगी जो पूरे सिस्टम कंट्रोल करेगा। यहीं से सिग्नल ग्रीन और रेड होगा।

Please follow and like us: