आठ जिलों में बाढ़ का कहर: 46 की मौत, अधिकारियों की छुट्टी रद्द, कमला, भूतही व धौंस नदियों के तटबंध टूटे, नये इलाकों में पानी

मधुबनी/मोतिहारी/सीतामढ़ी/ भागलपुर/पटना : नेपाल में भारी बारिश के कारण उत्तर बिहार की सभी नदियां लगातार उफान पर हैं. नदियों के बढ़ रहे जल स्तर का प्रभाव अब तटबंधों पर दिखने लगा है. मधुबनी, पूर्वी चंपारण और सीतामढ़ी में शनिवार की देर रात से रविवार तक छह तटबंध टूट गये. मोतिहारी में तिलावे नदी का तटबंध फुलवार और रोहिनिया गांव के बीच टूट गया. सीतामढ़ी के पुपरी में मरहा नदी का बिररवा तटबंध टूट गया.
मधुबनी में सबसे अधिक चार तटबंध टूटे. जिले में शनिवार की देर रात से रविवार के दिन तक कमला नदी का तीन, भूतही बलान का एक और धौंस का एक तटबंध टूट गया, जिससे झंझारपुर, अंधराठाढ़ी, खुटौना, फुलपरास, घोघरडीहा, मधेपुर, हरलाखी, बासोपट्टी सहित 111 गांव बुरी तरह पीड़ित हो गये हैं. सबसे खराब स्थिति नरूआर व गोपलखा की बतायी जा रही है. स्थानीय लोगों के अनुसार तटबंध टूटने से नरूआर गांव व गोपलखा के करीब दो दर्जन पक्का मकानों सहित 50 से अधिक घर पानी में विलीन हो गये हैं. नरूआर गांव के लोगों ने बताया कि कुछ परिवार लापता हैं.

Please follow and like us: