दम तोड़ता स्वच्छता अभियान,गाँवों से नदारद सफाईकर्मी।

विनय कुमार मिश्र गोरखपुर ब्यूरों। जिले में कई गाँव ओडीएफ घोषित लेकिन यहाँ का हाल देखकर आपकों हैरान कर देगा। ओडीएफ घोषित गाँवों में सड़कों पर पसरी गंदगियाँ स्वच्छता अभियान को मुँह चिड़ा रही है।ऐसे ही एक मामले का पता चला जो जनपद से सटे खोराबार ब्लाक अंतर्गत ग्राम पंचायत जंगल सिकरी का है। इस गाँव में सफाई व्यवस्था पूरी तरह से ध्वस्त हो चुकी है, क्षेत्र में जगह-जगह स्वच्छ भारत मिशन की धज्जियां उड़ रही है। क्षेत्र में जगह-जगह सड़कों पर लगा कूड़े का ढेर,  बजबजाती नालियां, मच्छरों के रोकथाम के लिए कभी नहीं होता फागिंग,  जिससे गांव में कई तरह की संक्रमित बीमारियों का अंदेशा बना हुआ है, क्षेत्रों में सफ़ाईकर्मी हमेशा नदारद रहतें है, ग्रामीण खुद सफाई करते है ।इसकी तरफ ग्राम प्रधान द्धारा भी ध्यान नहीं दिया जाता है, जिसके चलते सफाई व्यवस्था चौपट होती जा रही है, भले ही प्रदेश सरकार स्वच्छता अभियान को लेकर गंभीर हो लेकिन यहां के ब्लाक अधिकारी व जनप्रतिनिधि रत्ती भर भी गंभीर नहीं है। साफ सफाई व्यवस्था को चाक-चौबंद करने के लिए गांवों में सफाई कर्मियों की तैनाती की गई थी लेकिन अफसरों की अरुचि के चलते सफाई व्यवस्था का बुरा हाल है। गांवों में तैनात किए गए सफाई कर्मियों की निगरानी की जिम्मेदारी बीडीओ और एडीओ पंचायत की है लेकिन एडीओ पंचायत गांवों में कभी झांकने तक नहीं जाते जिसका नतीजा है की सफाई कर्मी घर पर बैठे कर ही ड्यूटी पूरी कर लेते हैं। उपरोक्त के सन्दर्भ में जब क्षेत्र के बीडीओ से बात की गयी तो उनका कहना था की मै तो अभी नया आया हूँ, अब संज्ञान में आया है देखता हूँ।मालुम हो की गाँवों में सफाई व्यव्स्था एकदम धवस्त हो चुकी है जिसके कारण मच्छरों की भरमार हो गई है साथ में लोगों का जिना हराम हो गया है दिन में ही मच्छर रोधी दवाओं को जलाना पड़ रहा है ।

Please follow and like us: