देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक SBI के मुनाफे में 40% की गिरावट, NPA में हुआ सुधार

देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के मुनाफे में भारी गिरावट आई है। चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में बैंक का शुद्ध मुनाफा 40.26 फीसद कम होकर 944.87 करोड़ रुपये रह गया।

पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में बैंक को 1,581.55 करोड़ रुपये का फायदा हुआ था।

तिमाही आधार पर देखा जाए तो बैंक घाटे से उबरने में सफल रहा है। चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में बैंक को 4,876 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था।

हालांकि इस तिमाही में बैंक की एसेट क्वॉलिटी में सुधार आया है। बैंक का ग्रॉस नॉन परफॉर्मिंग एसेट्स (जीएनपीए) पिछले साल की समान तिमाही के 10.69 फीसद से कम होकर 9.95 फीसद हो गया। वहीं एनपीए के मोर्चे पर भी बैंक की हालत में सुधार हुआ है। बैंक का एनपीए पिछले साल की समान तिमाही के 5.29 फीसद से कम होकर 4.84 फीसद हो गया।

आईएलएंडएफस में बैंक का 250 करोड़ रुपये आईएलएंडएफएस संकट के बाद से एनबीएफसी कंपनियों में बैंकों के कर्ज को लेकर आशंका की स्थिति बनी हुई है। नतीजे जारी करने के बाद मीडिया से बातचीत करते हुए एसबीआई के एमडी और सीईओ रजनीश कुमार ने कहा किआईएलएंडएफएस ग्रुप में एसबीआई का 250 करोड़ रुपये लगा हुआ है, जो हिस्सेदारी के रूप में हैं।