नालंदा – थानेदार कमलेश कुमार समेत तीन लोग 14 दिनों के न्यायिक हिरासत में भेजे गए जेल ,मामला जेडीयू दलित प्रकोष्ठ के प्रखंड अध्यक्ष द्वारा थाने फांसी लगाए जाने का

शंकर दयाल शर्मा की रिपोर्ट – पुलिस कस्टडी में जेडीयू नेता के फांसी लगाए जाने के मामले में मृतक के पुत्र ने बिहार शरीफ के अनुसूचित जाति जन जाति थाने  में थानेदार समेत नौ लोगो के विरुध्द हत्या का मामला दर्ज कराया है | मामला दर्ज किये जाने के बाद थानेदार कमलेश कुमार एएसआई बलिंद्र रॉय और चौकीदार संजय पासवान को बिहार शरीफ कोर्ट में पेश किया गया जहां से तीनो को 14 दिनों के न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया |  थानेदार के जेल जाते ही नालंदा के पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया |  जदयू महादलित प्रकोष्ठ के  प्रखंड अध्यक्ष गणेश रविदास ने नगरनौसा थाने के बाथ रूम  में फांसी लगा कर आत्महत्या कर लिया था ।दरअसल एक किशोरी के अपहरण के मामले में पुलिस ने एक दिन पूर्व एक महिला को गिरफ्तार किया था । जबकि गणेश रविदास इस मामले में आरोपित नहीं थे। बाबजूद पुलिस उन्हें पूछताछ के लिए बुलाई और हाजत में बंद कर दिया। जहां उन्होंने फांसी लगा कर खुदकुशी कर ली। इधर मृतक के पुत्र ने पुलिस के ऊपर टार्चर कर हत्या कर देने का आरोप लगाया है |मृतक के पुत्र बलराम रविदास ने अनुसूचित जनजाति थाने में थानाध्यक्ष  कमलेश कुमार समेत 9 लोगों के विरुद्ध हत्या का मामला दर्ज कराया है | दर्ज प्राथमिकी में कहा गया है –  मैं सैदपुरा  थाना नगरनौसा जिला नालंदा का रहने वाला हूं | हमारे पिता स्वर्गीय गणेश रविदास दिनांक 10 जुलाई  की  शाम करीब 4: बजे घर में बैठे थे उसी समय नगरनौसा के थाना अध्यक्ष कमलेश कुमार ,जमादार बलिंदर रॉय , चौकीदार जितेंद्र कुमार और संजय पाठक हमारे घर आए और हमारे पिताजी को पकड़कर थाने लेकर चले गए | जब हम लोग नगरनौसा थाना पहुंचे तो थाना अध्यक्ष ने हमारे साथ असभ्य भाषा का प्रयोग करते हुए जातिसूचक शब्दों का प्रयोग किया | जिसके बाद हमें  पिताजी से मिलने नहीं दिया गया और मुझे वहां से भगा दिया गया और मुझे कहा गया कि अभी पुलिस के साथ लड़की को खोजने गया है |उसके बाद हम लोग घर लौट कर चले आए फिर दिनांक 11 जुलाई को रात्रि करीब 8:15 बजे चौकीदार जितेंद्र कुमार मेरे घर पर आकर बोले की तुम्हारे  पिताजी का थाने पर मृत्यु हो गया है | तब हम लोग सपरिवार ग्रामीणों के साथ थाने पर पहुंचे तो मेरे पिताजी थाने पर नहीं थे तब पुलिस से पूछा तो बताया कि पोस्टमार्टम के लिए बिहारशरीफ सदर अस्पताल भेज दिया गया है | उसके बाद हम लोग सदर अस्पताल बिहारशरीफ आए तो देखा कि जमीन पर मेरे पिताजी मृत अवस्था में पड़े हैं और उनके शरीर पर जगह-जगह चोट के निशान और शरीर कटा फटा है सिर से भी खून बह रहा था  एड़ी से भी खून रिस रहा था और नाभि  काफी फूला हुआ था मुझे पूर्ण विश्वास है कि थानाध्यक्ष महोदय जमादार बलिंदर राय व चौकीदार जितेंद्र कुमार के द्वारा मेरे पिताजी को मार पीट कर हत्या कर दिया गया है | यह सब हमारे ग्रामीण नरेश साहू पिता झगड़ू साहू , पवन साहू उर्फ़ तन्नू शाह ,देवी नंदन कुमार, दयानंद साव उर्फ लड्डू साहू ,कमलेश कुमार पिता नरेश साहू सभी साकिन सैदपुरा  थाना नगरनौसा जिला नालंदा के रहने वाले है | उनके कहने पर ही नगरनौसा थाना अध्यक्ष,जमादार ,चौकीदार के द्वारा हमारे पिताजी की हत्या जानबूझकर थाना में किया गया है मेरे पिताजी को थाने लाने की वजह यही है कि नरेश साव की पुत्री मेरे गांव के ही एक लड़के के साथ भाग गई है इसी विषय में मेरे पिताजी को पकड़ कर थाने लाया गया था और मार पीट कर हत्या कर दिया गया |  अतः श्रीमान से निवेदन है कि प्राथमिकी दर्ज कर सभी व्यक्तियों पर उचित कानूनी कार्रवाई की जाए और मुझे दलित को न्याय मिल सके आपका विश्वासी बलराम रविदास साकिन सैदपुरा थाना नगरनौसा जिला नालंदा |

Please follow and like us: