पत्रकार पर हुए जानलेवा हमले के विरोध में पत्रकारों ने शांति मार्च निकालकर डी एम,एस पी को दिया ज्ञापन

सुल्तानपुर
लखनऊ से प्रकाशित एक हिंदी दैनिक के जिला प्रतिनिधि दिनेश पांडेय पर बीती 18 दिसम्बर को उस समय प्राण घातक हमला हुआ,जब वे अपने बस स्टेशन स्थित प्रतिष्ठान से घर पहुंचे ही थे।उन्होंने अपनी स्कूटी खड़ी की ही थी कि बाइक पर सवार अज्ञात हमलावरों ने ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी।दिनेश खुद को बचाते हुए भागकर घर मे घुस गए।हमलावरों  द्वारा चलाई गई एक गोली उनके पीठ में लगी।हमलावरों ने कुल तीन गोलियां उन पर दागी थी।फायरिंग की आवाज सुनकर मोहल्ले वाले दौड़े तो हमलावर असलहा लहराते हुए भाग खड़े हुए।उनके पिता वरिष्ठ पत्रकार मनोरम पांडेय की तहरीर पर जानलेवा हमले का मुकदमा कोतवाली नगर में दर्ज हुआ।पीटकर दिनेश पर हमले की सूचना मिलते ही सैकड़ों पत्रकार कोतवाली नगर में जमा हो गए।कोतवाली प्रभारी व प्रभारी एस पी को कोतवाली आने में एक घण्टे लग गया।जिससे पत्रकार आक्रोशित होकर नारेबाजी करने लगे।उक्त प्रकरण पर जनपद के सभी पत्रकार नगर के प्रेसक्लब में एकत्रित हुए।जहां से शांति पूर्वक पैदल मार्च करते हुए जिलाधिकारी कार्यालय पहुंचकर ज्ञापन सौंपा।उसके बाद सभी पत्रकार एस पी कार्यालय पहुंच गए।जहां पर सभी ने अपनी बात रखी।महामहिम राज्यपाल को सम्बोधित ज्ञापनके माध्यम से पत्रकारों ने मांग की है कि पत्रकार पर हुए प्राण घातक हमले के आरोपियों को शीघ्र गिरफ्तार किया जाय।जनपद के थानों में दर्ज पत्रकारों पर फर्जी मुकदमे वापस लिए जाय।वर्तमान में जनपद के थानों पर अपने लोगों से पत्रकारों के खिलाफ तहरीर लेकर मुकदमे दर्ज किए जा रहे हैं,जो उनपर नाजायज दबाव बनाने के लिए दर्ज किए गए हैं।तत्काल वापस लिए जाय।जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक ने पत्रकारों को अश्वस्तक़िया की उनके साथ ज्यादती नहीं होने दी जाएगी।उक्त मौके पर पत्रकार एशोसिएशन के अध्यक्ष डॉ0 अवधेश शुक्ला,उपजा के अध्यक्ष अनिल द्विवेदी,श्रमजीवी पत्रकार संगठन के अशोक मिश्रा,नीरज तिवारी,वरिष्ठ पत्रकार मनोराम पांडेय,बिजय बिद्रोही,रमाकांत तिवारी,गिरिजा शंकर पांडेय,जनपद के कोने-कोने से आये हुए पत्रकार साथी धर्मेंद्र सिंह,सूर्य प्रकाश तिवारी,शयमचन्द्र श्रीवास्तव,निसार अहमद,पीर मोहम्मद सहित बड़ी संख्या में पत्रकार साथी मौजूद रहे।
Please follow and like us: