कोसी और सीमांचल के अधिकारों के लिए लड़ेंगे अंतिम सांस तक पप्‍पू यादव

मधेपुरा, 5 जनवरी 2018: जन अधिकार पार्टी (लो) के द्वारा मधेपुरा स्‍टेडियम, मधेपुरा में कोसी और सीमांचल के अधिकारों की लड़ाई के लिए आयोजित संकल्‍प और आजादी कार्यकर्ता सम्‍मेलन में लाखों की संख्‍या में भीड़ उमड़ी को संबोधित करते हुए पार्टी के राष्‍ट्रीय संरक्षक सह सांसद पप्‍पू यादव ने कहा कि वे कोसी और सीमांचल के अधिकारों के लिए अंतिम सांस तक लड़ेंगे। कोसी और सीमांचल की उपेक्षा अब बर्दाश्‍त नहीं होगी। बता दें कि इससे पहले जाप (लो) के कार्यकर्ता सम्‍मेलन के दौरान पप्‍पू यादव के आगमन पर बड़ी संख्‍या में युवाओं ने मोटर साइकिल जुलूस भी निकाला।

वहीं, पप्‍पू यादव ने सभा में एम्‍स के मुद्दे को उठाते हुए केंद्र सरकार और राज्‍य सरकार पर जोरदार हमला बोला है। उन्‍होंने कहा कि जब सहरसा में एम्‍स की प्रस्‍तावित था, तो क्‍यों इसे यहां से हटाया गया। जबकि कोसी और सीमांचल में मेडिकल व्‍यवस्‍था के नाम पर बदहाली का मार झेल रहा है अस्‍पताल है। मगर राज्‍य सरकार और केंद्र सरकार ने हमेशा की तरह एक बार फिर से कोसी और सीमांचल के साथ सौतेला व्‍यवहार किया और एम्‍स का स्‍थानांतरण कर दिया।

सांसद ने बाढ़ और सूखाड़ को लेकर भी सरकार पर जमकर बरसे। कहा कि कोसी की बाढ़ को सरकार ने नासूर बना दिया है, यही वजह है कि हर साल बाढ़ आती है और तबाही का शिकार यहां के लोग बनते हैं। बाढ़ के वक्‍त कोई खबर लेने नहीं आता है। बाढ़ का पानी निकल जाने के बाद मुख्‍यमंत्री समेत पक्ष – विपक्ष के लोगों को बाढ़ की चिंता करते हैं। लेकिन किसी को बाढ़ की समस्‍या का स्‍थायी समाधान करने में कोई दिलचस्‍पी नहीं है। सिर्फ पप्‍पू यादव ही बाढ़ सूखाड़ या कोई भी विकट स्थित में आपके पास होता है।

उन्‍होंने बिहार में लॉ एंड ऑर्डर के सवाल पर कहा कि बिहार में कोई सुरक्षित नहीं है। अपराधी – माफिया के इशारे पर सरकार चल रही है। नीतीश कुमार की सरकार ने अपराधियों के सामने घुटने टेक दिए हैं। यही वजह है कि आज अपराधी सीएम हाउस में बैठकर धमकी देते हैं। हर रोज बिहार में चार दर्जन हत्‍याएं हो रही हैं। कल रात हम बिहार शरीफ में थे, जहां मॉब लिंचिंग में लोगों की हत्‍या कर दी गई थी। वो भी मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार के गृह जिले में। बिहार में बेटियां सुरक्षित नहीं हैं। इसका उदाहरण मुजफ्फरपुर शेल्‍टर होम, पटना आसरा होम और सुपौल में कस्‍तूरबा छात्रावास उदाहरण हैं। हमने इस मुद्दे को रंजीत रंजन के साथ मिलकर लोकसभा में भी उठाया। इसलिए आज अपराधियों को चिन्हित कर शूट एंड साइट करने की जरूर है।

सांसद ने सभा में साढ़े चार सालों में अपने कार्यों का ब्‍यौरा देते हुए कहा कि साढ़े चार साल तक हमने मजदूरी की है। वो भी एक सेवक के रूप में। यही वजह है कि दुनिया के इतिहास में मैं पहला ऐसा सांसद हूं जिसके गाड़ी में हर दिन 18 हजार रूपए का तेल भराया जाता है। मैं कहां जाता हूं। ये आपको भी पता है। बिहार की हर एक कराह पर सेवा के लिए पप्‍पू यादव आपके बीच होता है। आपके चेहरे की मुसकान के लिए सड़क से संसद तक हम लड़ते हैं। आपकी बात करते हैं।

उन्‍होंने कहा कि  हमारे साथ जन अधिकार पार्टी का एक – एक कार्यकर्ता हर दिन बिहार और यहां के लोगों के अधिकार के लिए लड़ रहा है। इसमें आपका भी सहयोग चाहिए। क्‍योंकि अगर बिहार बचाना है तो जन अधिकार पार्टी के साथ मिलकर आपको भी अपने हक की लड़ाई के लड़ना होगा। उन्‍होंने कहा कि बेहद कम समय में हमारी पार्टी ने लोगों के दिलों में जगह बनाई है, जिसकी सराहना राष्‍ट्रीय स्‍तर पर होने लगी है। खुद सदन में स्‍पीकर सुमित्रा महाजन ने हमारी पार्टी के संघर्षों की तारीफ देश के दिग्‍गज नेता लालकृष्‍ण आडवाणी, मुलायम सिंह यादव के सामने की। इसलिए अब हम पर देश और समाज को बचाने की जिम्‍मेवारी है। इसलिए लोकसभा के साथ – साथ विधान सभा चुनाव में आप जन अधिकार पार्टी का साथ दें।