नीतीश का तेजस्वी पर निशाना-जिन्हें संविधान का ज्ञान भी नहीं वो संविधान यात्रा पर निकले

मुंगेर.  मुख्यमंत्री नीतीश कुमार रविवार को भी राजद और नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव पर जमकर बरसे। उन्होंने कहा कि 15 वर्षों तक बिहार को बदहाली के कगार तक पहुंचाने वाले लोग आज हमारे राजनीतिक जीवन पर सवाल उठा रहे हैं। कभी शराबबंदी पर सवाल तो कभी दहेज प्रथा पर। लेकिन, मैंने भी ठान लिया है कि बिहार से इन कुप्रथाओं को खत्म कर के ही दम लूंगा।

बिना नाम लिए तेजस्वी यादव पर निशाना साधते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि जिन्हें संविधान का क, ख, ग भी नहीं आता वह आज उसे बचाने की यात्रा कर रहे हैं। आरक्षण के मुद्दे पर सीएम बोले-इस धरती पर कोई ऐसा पैदा नहीं हुआ है जो बाबा साहेब के दिए आरक्षण को समाप्त कर दे।

बाबा साहेब ने समाज के सभी वंचित वर्गों को मुख्यधारा में लाने के लिए आरक्षण की व्यवस्था की थी, जो जारी है और आगे भी रहेगा। मुख्यमंत्री स्थानीय पोलो मैदान में प्रमंडलीय दलित-महादलित सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि 2005 में जब उन्होंने सत्ता संभाली थी, तो पूरे प्रदेश में बदहाली थी। न्याय यात्रा के जरिए हमने पूरे बिहार में संदेश दिया कि हमारी सरकार न्याय के साथ विकास के मापदंड पर चलेगी। हमने अपनी योजनाओं को समाज के दलित, महादलित, पिछड़े, अति पिछड़े और अल्पसंख्यक वर्ग को केंद्रित कर क्रियान्वित किया।