वर्तमान केंद्र सरकार मजदूर विरोधी – शैलेश

” डाककर्मियों की माँगे जायज ” : शैलेश ‘
समस्तीपुर,दिनांक-09-01-2019.  केन्द्रीय नेतृत्व के आह्वान पर अपने 22 सूत्री मांगों के समर्थन में ‘संयुक्त डाक संघर्ष समिति’ के बैनर तले आज दूसरे दिन भी जारी रही। प्रधान डाकघर के मुख्य द्वार पर हड़ताल का आयोजन किया गया,जिस कारण जिले की तमाम डाक सेवाएँ आज दूसरे दिन भी ठप्प रही तथा सभी डाकघरों में आज भी ताले लटके पाये गए।वक्ताओं ने केन्द्र सरकार की नीतियों का जम कर विरोध कर भड़ास निकाले।
इस अवसर पर कार्यक्रम को संबोधित करते हुए संयुक्त संघर्ष समिति के प्रवक्ता शैलेश कुमार सिंह ने सरकार की कर्मचारी विरोधी नीतियों और वादा खिलाफी का जमकर विरोध किया। श्री ने संगठन की चिर लंबित अपनी मांगों की विस्तृत चर्चा करते हुए कहा कि देश पर आर्थिक बोझ का बहाना बनाकर सरकार ने वर्ष 2004 में केन्द्र और राज्य सरकारी कर्मचारियों का पेंशन का प्रावधान समाप्त किये जाने पर रोष ब्यक्त करते हुए समाज सेवा के नाम पर सांसद,विधायक,विधान पार्षदों समेत महत्वपूर्ण पदों पर आसीन जन प्रतिनिधियों का पेंशन लागू कर दोहरे मापदंड का परिचय दिए जाने का आरोप लगाया तथा सरकारी कर्मचारियों की सेवानिवृति के पश्चात स्वयं और परिवार के भरण-पोषण के लिए प्रत्येक माह मिलने वाली मासिक राशि से वंचित किये जाने को अमानवीय करार दिया।उन्होंने  सरकार से नई पेंशन नीति अविलंब वापस लेने तथा पुरानी पेंशन नीति लागू करने की माँग की। श्री सिंह ने लंबित मांगों में शामिल वर्षों से खाली पड़े सभी रिक्त पदों को अविलंब नव-नियुक्ति कर भरने,ग्रुप-बी और उच्चाधिकारियों को पूरे सेवाकाल में मिलने वाली 05 समयबद्ध पद्दोन्नति की तर्ज पर सभी स्तर के कर्मचारियों को 05 पद्दोन्नति का लाभ दिया जाना,समाज के अंतिम व्यक्ति तक डाक सेवा उपलब्ध कराने वाले डाक सेवकों को सरकारी कर्मचारियों को सरकारी कर्मचारी घोषित करना और सरकारी कर्मचारियों की तर्ज पर सभी सरकारी सुविधा का लाभ देना,पद्दोन्नति अनुक्रम में एम ए सी पी लागू करना एवं एल डी सी के वेतनमान में बढ़ोतरी करना,समान काम के लिए समान वेतन सुनिश्चित करना,सेवा काल में मृतक डाक कर्मचारियों के आश्रितों को अनुकंपा के आधार पर 05 प्रतिशत की जगह शत-प्रतिशत बहाल करना,आउट शोर्सिंग और कॉन्ट्रक्ट पर बहाली बन्द कर कैजुअल लेबर तथा कंटीजेन्ट पेड कर्मचारियों को नियमित करना, 07 वें वेतन आयोग की समस्त कर्मचारी समर्थित अनुशंसा को हूँ-बहू लागू करना तथा गत वर्ष रद्द (बन्द) किए गए कर्मचारियों के  52 प्रकार के भत्ते को पुनः चालू करने जैसी अपनी मांगों के समर्थन में हमें बाध्य होकर हड़ताल पर जाना पड़ रहा है।
मौके पर सर्वश्री अवधेश कुमार चौबे,ओम प्रकाश सिंह,यशवंत कुमार सिंह,दिलीप कुमार,संजीव झा,गौरव सुमन,राकेश कुमार, वैद्यनाथ पासवान, सुरेश सिंह,जगदीश चौपाल,संजय झा, समेत सैकड़ों कर्मचारी उपस्थित थें।
सादर, साभार– शैलेश कुमार सिंह (प्रवक्ता),अखिल भारतीय डाक कर्मचारी संघ,संमस्तीपुर-848101 (बिहार).