महिलाओं पर की गई टिप्पणी के लिए दलाई लामा ने माफी मांगी

दलाई लामा ने हाल ही में दिए गए इंटरव्यू के दौरान महिलाओं पर की गई अपनी टिप्पणी के लिए माफी मांग ली। उनके कार्यालय ने कहा कि तिब्बत के आध्यात्मिक नेता ने हमेशा महिलाओं को एक उत्पाद की तरह पेश किए जाने का विरोध किया है। इंटरव्यू के दौरान उनसे पूछा गया था कि उनकी उत्तराधिकारी एक महिला हो सकती है तो इस पर उन्होंने हंसते हुए कहा था कि उसे आकर्षक होना चाहिए।

दलाई लामा के कार्यालय ने एक बयान जारी किया जिसमें कहा गया है कि आध्यात्मिक नेता का मकसद किसी को चोट पहुंचाना नहीं था। और उन्हें बेहद दुख है कि उनकी बात से लोगों को दुख पहुंचा है। उन्होंने माफी की पेशकश की है।
वहीं इसी इंटरव्यू में यूरोप में शरणार्थी संकट के सवाल पर दिए गए जवाब को लेकर उनके कार्यालय ने कहा कि हो सकता है उनके बयान का गलत मतलब निकाला गया हो। तिब्बत के आध्यात्मिक नेता खुद निर्वासित हैं। उन्होंने कहा था कि यरोप को एक निश्चित सीमा तक ही शरणार्थियों को लेना चाहिए और उनका लक्ष्य होना चाहिए कि वह उन्हें उनके देश भेजें। उन्होंने कहा, ”लेकिन क्या पूरा यूरोप मुस्लिम देश बन जाएगा? असंभव। या फिर अफ्रीकी देश बन जाएगा। यह भी असंभव। यूरोप को यूरोपीय लोगों के लिए ही रखें।”
बयान में कहा गया कि अनौपचारिक रूप से दिए गए बयान में कभी-कभी ऐसा होता है। हो सकता है कि किसी एक सांस्कृतिक परिपेक्ष्य में यह अच्छा हो लेकिन जब यह किसी और अन्य में लाया जाता है तो अनुवाद में उसका हास्य खो जाता है।

Please follow and like us: