यूरिया पर मची है हाय तौबा।

विनय कुमार मिश्र, गोरखपुर ब्यूरों। जनपद में यूरिया की किल्लत इस कदर बढ़ गई है कि सरकारी समितियों पर सुबह से लगे लाइन शाम तक लगी कि लगी  रह जा रही जो इस बात को पुख्ता कर रही है किसानों के जेब पर डाका डालने की भरसक कोशिसे हो रही है। चौरी चौरा में आर्यन नाम के एक किसान ने बताया कि यूरिया की किल्लतों का फायदा प्राइवेट दुकान वाले वाले उठा रहे हैं।प्राइवेट दुकानें किसानों से मनमाना दाम ले रहे है। यही नही यूरिया की बोरी के साथ गेहूँ हरा करने की दवा लेने के लिए किसानों को मजबूर भी कर रहे। यूरिया तभी देते हैं जब किसान दवा लेता है नही तो नहीं देते हैं।अगर कोशिसे की जाती है लेने की तो  किसानो के साथ बदतमीजी करने पर प्राइवेट दुकान वाले उतारु हो जा रहे हैं और बाद में खाद नही है का बहाना बनाने लगते हैं तथा कहते जो करना होगा कर लेना। किसानों से प्राइवेट दुकान वाले एक बोरी का दाम 320 रुपए से अधिक वसूल रहे है जबकि निर्धारित मूल्य ₹299 है। मालूम हो कि प्रशासन का साफ निर्देश है कि यूरिया का मूल्य ₹299 से अधिक न लिया जाय लेकिन अफसोस की यह सब चौरी चौरा तहसील और पुलिस थाने के नजदीक के दुकानदार ही ऐसा कर रहे है।इस बात से अंदाजा लगाया जा सकता है कि दूर दराज के किसानों के साथ क्या हो रहा होगा।

Please follow and like us: