राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव कई बार सार्वजनिक मंच से आर्थिक आधार पर सवर्णों के आरक्षण की वकालत कर चुके हैं

राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव कई बार सार्वजनिक मंच से आर्थिक आधार पर सवर्णों के आरक्षण की वकालत कर चुके हैं उनकी अनुपस्थिति में राजद के नीति निर्धारकों ने लोकसभा में इस बिल का विरोध कर अपने पैरों पर कुल्हाड़ी तो नही मार ली.वर्ष 2009 का लोकसभा चुनाव याद होगा राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद अपने राजनैतिक वजूद को बचाने के लिए संघर्ष कर रहे थे तब सवर्ण वोटर ही उनके तारणहार बने थे उस लोकसभा चुनाव में महाराजगंज लोकसभा क्षेत्र से उमाशंकर सिंह वैशाली से रघुवंश प्रसाद सिंह तथा बक्सर से जगदानंद सिंह राजद के टिकट पर चुने गए थे तीनों राजपूत बिरादरी के थे खुद राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद. यादव बहुल पाटलिपुत्र सीट से चुनाव हार गए तथा सारण लोकसभा सीट से सवर्ण मतदाताओं ने उनकी इज्जत बचाई थी.सवर्ण मतदाताओं के बीच आज राजद के नीति निर्धारक एक विलेन बनकर उभरे जबकी वे जानते थे कि उनका आंशिक विरोध लोकसभा में इस बिल को रोक नहीं सकता आने वाले लोकसभा चुनाव में 7 से 8 लोकसभा क्षेत्र ऐसे हैं जहां सवर्ण मतदाता ही निर्णायक भूमिका में है.

Please follow and like us: