शिक्षकों को प्रशिक्षण के दिन से वेतनमान सुप्रिम कोर्ट के निर्णय से डेढ लाख शिक्षक लाभान्वित शिक्षक नेता ने की प्रेस वार्ता

रिपोर्ट-पंकज कुमार सिंह

डेढ लाख से अधिक नियोजित शिक्षकों को प्रशिक्षण पूरे होने के दिन से वेतन देने का निर्णय देश के सर्वोच्च न्यायालय सुप्रिम कोर्ट ने बिहार सरकार को दिया है। बिहार सरकार द्वारा दायर एसलपी को सुप्रिम कोर्ट ने खारिज कर दिया है।
उक्त बाते सारण जिला परिवर्तन शिक्षक संघ के अध्यक्ष समरेन्द्र बहादुर सिंह ने शुक्रवार को स्थापना कार्यालय परिसर में प्रेस वार्ता में कहीं। उनहोंने कहा कि डेढ लाख से अधिक वैसे नियोजित शिक्षक जिन्होंने 2007-09, 2008-10, 2009-11 एवं 2010-12 वर्ष में डीपीई कोर्स इग्नू के माध्यम से प्रशिक्षण प्राप्त किया था। जिसकी फाइल परीक्षा जून 2009, 2010, 2011 एवं जून 2012 में ली गयी। जिसके बाद सभी प्रशिक्षण प्राप्त शिक्षकों को प्रमाण पत्र दे दिया गया, लेकिन बिहार सरकार द्वारा उन्हें प्रशिक्षित शिक्षक मानने से इंकार करते हुए छः माह का संवर्द्धन कोर्स करने के उपरांत ही प्रशिक्षित मानने का तुगलकी फरमान जारी कर दिया था। जिसके खिलाफ परिवर्तनकारी प्रारंभिक शिक्षक संघ ने सबसे पहले हाईकोर्ट में अपील दायर किया। जहां शिक्षकों के पक्ष में होईकोर्ट का आदेश न मानते हुए सुप्रिम कोर्ट में एसएलपी दायर कर दिया। सुप्रिम कोर्ट ने भी हाईकोर्ट द्वारा दिये गये फैसले को सही ठहराते हुए शिक्षकों को प्रशिक्षण समाप्त होने के बाद से प्रशिक्षित शिक्षक की तरह वेतन देने का का आदेश बिहार सरकार को दे दिया है। जिससे नियोजित शिक्षकों ने कोर्ट के आदेश की सराहना करते हुए बिहार सरकार को जमकर कोसा। संघ के अध्यक्ष समरेन्द्र बहादुर ने कहा कि सरकार की गलत नीतियों के चलते शिक्षकों का करोड़ो रूपये केस लड़ने में खर्च हो जाता है। लेकिन बिहार सरकार अपने रवैया से बाज नहीं आ रहा है। शिक्षक नेता ने बिहार सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि सरकार अगर अब भी शिक्षकों को प्रशिक्षित मानकर उनका वेतन नहीं देती है तो आनेवाले चुनाव में राज्य के सभी नियोजित शिक्षक एकजुट होकर वर्तमान सरकार के खिलाफ मतदान करेंगे। हालांकि सुप्रिम कोर्ट के फैसले से नियोजित शिक्षकों में काफी खुशी देखी जा रही है। प्रेस वार्ता में हवलदार मांझी, जिला सचिव संजय राय, विकास कुमार, विनायक यादव, मुकेश कुमार, सुमन प्रसाद कुशवाहा, पंकज प्रकाश सिंह सहित दर्जनों शिक्षक मौजूद थे।

Please follow and like us: