समस्तीपुर जिला के रोसड़ा प्रखंड के मो०नगर रोसड़ा पूरब के मध्य विद्यालय महुली ,रोसड़ा विद्यालय में चल रही धांधली का हुआ पर्दाफाश ।

पलटन साहनी की रिपोर्ट
समस्तीपुर जिला के रोसड़ा प्रखंड के मो०नगर रोसड़ा पूरब के मध्य विद्यालय महुली ,रोसड़ा विद्यालय में चल रही धांधली का हुआ पर्दाफाश ।विद्यालय में अराजकता का माहौल छाया है ।वर्ष 2014से 2018 के बीच विभागीय राशि की खर्च का लेखा-जोखा सही नहीं पाया गया ।विधालय में SDG एवं MR मद के 10000 एवं 12000 प्रतिवर्ष विद्यालय को प्राप्त होता है, फिर भी इस मद की राशि को सही खर्च नहीं किया जाता है। जिसके कारण विद्यालय में कुर्सी ,टेबल ,बेंच डेक्स एवं रंगाई पुताई भी 2014 से 2018 तक प्रधानाध्यापक द्वारा नहीं की गई। बी ई ओ रोसरा डॉ०बैजू झा के द्वारा म०वि०महुली के प्रभारी प्रधानाध्यापक,रामचन्द्र ठाकुर,प्रखंड शिक्षक(टीईटी) को हिदायत दी गई की थी कि 10 दिनों के अंदर विद्यालय की रंगाई पुताई कर कार्यालय में सूचना उपलब्ध कराई जाए। मध्य विद्यालय महुली रोसरा के प्रभारी द्वारा 10 दिनों के अंदर विद्यालय की रंगाई पुताई एवं कुर्सी खरीद कर सूचना देने की बात फोन पर स्वीकार की गई थी। फिर भी बीईओ,रोसड़ा की बात को अनदेखी किया जाना कहीं ना कहीं विभागीय लापरवाही का प्रतीक है ।वहीं विद्यालय में 7 रसोईयों में से एक रसोईया के बदले दूसरा रसोईया कार्य करते हुए पाया गया जो रसोईया के सास थी। जिनका नाम सुकुमारी देवी पाया गया। रसोईया के द्वारा प्रधानाध्यापक की मिलीभगत से रसोई घर में अनाधिकार रूप से खाना पकाना न्यायोचित नहीं है ।साथ ही विद्यालय में छात्र के हिसाब से मध्यान भोजन की मात्रा नहीं दी जाती है तथा छात्रों की उपस्थिति ज्यादा दर्ज कर राशि गबन की जा रही है। विभागीय पदाधिकारी द्वारा विद्यालय की जांच सही तरीके से नहीं क्या जाना कहीं ना कहीं राशि गबन में उनकी भी संलिप्ता जताई जा रही है ।विद्यालय में छात्र के अनुपात में शिक्षकों की कमी पाई गई ।छात्र हित में विधालय
पदस्थापित सभी शिक्षकों को मूल विद्यालय

Please follow and like us: