सिंधिया थाना क्षेत्र के पैंसलाह एवं रामपुरा गांव में गुरुवार के दिन काला दिन के रूप में परिलक्षित हुआ गांव में चीख चितकार का आलम यह

सिंधिया  थाना क्षेत्र के पैंसलाह  एवं रामपुरा गांव में गुरुवार के दिन काला दिन के रूप में परिलक्षित हुआ गांव में चीख चितकार का आलम यह रहा कि गांव में कोई किसी का आंसू पोछने की स्थिति में नहीं था बताते चलें बाढ़ के दौरान बेरोजगारी की स्थिति में उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में गत माह काम करने गया था  रामपुरा गांव के विजय राय एवं विभूतिपुर के शिवकुमार तथा पैंसलाह  गांव के दामोदर सदा संदीप सदा तथा होरिल सदा गाजियाबाद जिले के सिहानी थाना क्षेत्र के कृष्णा नगर मोहल्ला में लैंडमाइंस सीवर का कार्य करता था मौत की खबर मिलते ही गांव में स्थानीय प्रशासन समेत जनप्रतिनिधियों का जमावड़ा होने लगा महिलाओं के चित्कार बच्चों का हृदय इरादत क्रंदन में बाहर के लोगों को भी बरबस रोने को मजबूर कर रहा था मृतक दामोदर की पत्नी मंजू देवी एवं उनके चारों पुत्री का क्रंदन प्रशासनिक पदाधिकारी एवं जनप्रतिनिधि भी रोने पर विवश हो गए जबकि संदीप की पत्नी बेहोश थी जबकि 7 वर्षीय एकमात्र पुत्र को समझ में नहीं आ रहा था कि क्या हुआ है होरिल सदा की पत्नी शोभा देवी अपने 4 बच्चों की परवरिश की चिंता में  रो-रो कर बेहोश हो जाती थी कुल मिलाकर   म्हारा पंचायत के पेंशनर एवं मीरपुर भगोरिया पंचायत के रामपुरा रामपुरा गांव में चित्रकार एवं क्रंदन से आस-पास के गांव में भी शोक का लहर व्याप्त है रामपुरा के शिवकुमार मूल रूप से विभूतिपुर थाना क्षेत्र के बेलसंडी गांव का था जो अपने जीजा रामपुरा गांव के विजय राय के साथ मजदूरी करने गया था मौके पर पहुंचे सीओ संतोष कुमार थाना अध्यक्ष पंकज कुमार तथा लोजपा प्रखंड अध्यक्ष निरंजन सिंह निरंजन सिंह दिनेश जा जगन्नाथ पोद्दार मुखिया रिंकू देवी समेत कई लोग उपस्थित थे मृतक के परिजनों को सांत्वना दे रहे थे

Please follow and like us: