♦इस खबर को आगे शेयर जरूर करें ♦

बिहार के मंत्रियों का संपत्ति का ब्यौरा जारी

बिहार के मंत्रियों का संपत्ति का ब्यौरा जारी

 

बिहार सरकार की ओर से मुख्यमंत्री, उप मुख्यमंत्री और राज्य के 29 मंत्रियों की संपत्ति का विवरण नया साल पहले दिन सार्वजनिक किया गया. इसमें उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से करीब सात गुणा अमीर दिखे हैं. नीतीश ने संपत्ति में कार है, जबकि तेजस्वी के पास कार नहीं है. जारी किए गए आंकड़ों में राजस्व मंत्री आलोक कुमार मेहता सबसे अमीर हैं, उनके पास 25.32 करोड़ की संपत्ति है. वहीं तेजस्वी यादव के पास 5.27 करोड़, जबकि उनके बड़े भाई और वन-पर्यावरण मंत्री तेज प्रताप के पास 3.25 करोड़ की संपत्ति है. वहीं नीतीश कुमार की कुल 75.53 लाख की संपत्ति में 58.85 लाख अचल है.

राजस्व मंत्री सबसे अमीर

राजस्व मंत्री आलोक कुमार मेहता मंत्रियों की सार्वजनिक की गई सूची में सबसे धनी हैं. मेहता के पास कुल संपत्ति 25.32 करोड़ की संपत्ति है, जिसमें 24.32 करोड़ अचल है. वहीं उद्योग मंत्री समीर कुमार महासेठ दूसरे नंबर पर हैं और इनके पास 16.19 करोड़ की चल संपत्ति ही. जल संसाधन मंत्री संजय कुमार झा तीसरे नंबर पर हैं, जिनकी कुल संपत्ति 15.54 करोड़ है.

बाकी करोड़पति मंत्रियों की संपत्ति

खान भूतत्व मंत्री डॉ. रामानंद यादव ने अपनी कुल संपत्ति 13.91 करोड़ बताई है, उनके पास 13 करोड़ की अचल संपत्ति है. इसके अलावा उपने पास 380 ग्राम सोना है.

सहकारिता मंत्री सुरेंद्र प्रसाद यादव ने अपनी कुल संपत्ति 11.38 करोड़ बताई है, उनके पास 9.46 करोड़ की अचल संपत्ति है इसके अलावा कई शहरों में उनके आवासीय जमीन भी है.

कृषि मंत्री कुमार सर्वजीत ने अपनी कुल संपत्ति 8.75 करोड़ बताई है, जिसमें 6.44 करोड़अचल संपत्ति है. उन्होंने होटल में भी निवेश किया है.

मद्य निषेध मंत्री सुनील कुमार ने अपनी कुल संपत्ति 6.25 करोड़ बताई है, जिसमें 1.40 करोड़ अचल संपत्ति है.

परिवहन मंत्री शीला कुमारी ने अपनी कुल संपत्ति 6.10 करोड़ बताई है, जिसमें 5.70 करोड़ की अचल संपत्ति है.

भवन निर्माण मंत्री अशोक चौधरी ने अपनी कुल संपत्ति 5.95 करोड़ बताई है, जिसमें 1.82 करोड़ ही अचल संपत्ति है.

विज्ञान-प्रौद्योगिकी मंत्री सुमित कुमार सिंह ने अपनी कुल संपत्ति 5.78 करोड़ बताई है, जिसमें 4.36 करोड़अचल संपत्ति है. इसके अलावा इनके पासगुजरात और नोएडा में प्लॉट है।

कानून मंत्री शमीम अहमद ने अपनी कुल संपत्ति 5.31 करोड़ बताई है, जिसमें 4.20 करोड़अचल संपत्ति है इन्होंने एक करोड़ का लोन भी दिखाया है।

कला-संस्कृति मंत्री जितेंद्र कुमार राय ने अपनी संपत्ति 4.62 करोड़ बताई है, जिसमें अचल संपत्ति 3.95 करोड़ है।

एससी-एसटी कल्याण मंत्री संतोष कुमार सुमन ने अपनी कुल संपत्ति 3.79 करोड़ बताई है, जिसमें 3.33 करोड़ अचल संपत्ति है.

समाज कल्याण मंत्री मदन सहनी ने अपनी कुल संपत्ति 3.10 करोड़ बताई है, जिसमें अचल संपत्ति 2.14 करोड़ बताई है.

ऊर्जा मंत्री बिजेंद्र यादव ने अपनी कुल संपत्ति 2.71 करोड़ बताई है, जिसमें 88 लाख ही अचल संपत्ति है.

खाद्य उपभोक्ता मंत्री लेशी सिंह ने अपनी कुल संपत्ति 2.40 करोड़ बताई है, जिसमें अचल संपत्ति 1.27 करोड़ है। इन्होंने अपने पास 2 ट्रक होने की जानकारी दी है।

ग्रामीण विकास मंत्री श्रवण कुमार ने अपनी कुल संपत्ति 2.27 करोड़ बताई है, जिसमें 1.25 करोड़ की अचल संपत्ति है.

संसदीय कार्य मंत्री विजय चौधरी ने अपनी कुल संपत्ति 2.20 करोड़ बताई है, जिसमें 1.40 करोड़ अचल संपत्ति है.

लघु जल संसाधन मंत्री जयंत राज ने अपनी कुल संपत्ति 1.92 करोड़ बताई है, जिसमें 1.13 करोड़ अचल संपत्ति की है.

शिक्षा मंत्री प्रो. चंद्रशेखर ने अपनी कुल संपत्ति 1.54 करोड़ बताई है, जिसमें 1.05 करोड़ अचल संपत्ति है.

पिछड़ा वर्ग कल्याण मंत्री अनीता देवी ने अपनी कुल संपत्ति 1.24 करोड़ बताई है, जिसमें 1 करोड़ अचल संपत्ति है.

आईटी मंत्री मो. इसराइल मंसूरी ने अपनी कुल संपत्ति 1.15 करोड़ बताई है, जिसमें 74.78 लाख अचल संपत्ति है.

पंचायती राज मंत्री मुरारी कुमार गौतम ने अपनी कुल संपत्ति 1.09 करोड़ बताई है, जिसमें 47.50 लाख अचल संपत्ति है.

मत्स्य संसाधन मंत्री मो. आफाक आलम ने अपनी कुल संपत्ति 1.08 करोड़ बताई है, जिसमें 61.20 लाख अचल संपत्ति है.

अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री मो. जमा खान ने अपनी कुल संपत्ति 74.76 लाख बताई है, जिसमें 23 लाख अचल संपत्ति है.

श्रम संसाधन मंत्री सुरेंद्र राम के पास कुल संपत्ति 79 लाख है, जिसमें 42 लाख अचल संपत्ति है.

आपदा प्रबंधन मंत्री शहनवाज के पास 56.61 लाख की चल संपत्ति के साथ 17 लाख जमीन का है.

पीएचईडी मंत्री ललित कुमार यादव ने अपने पास चल संपत्ति के रूप में सिर्फ 18.12 लाख का ही जिक्र किया है.


व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें


स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

[responsive-slider id=1811]

जवाब जरूर दे 

आप अपने सहर के वर्तमान बिधायक के कार्यों से कितना संतुष्ट है ?

View Results

Loading ... Loading ...


Related Articles

Close
Close
Website Design By BootAlpha.com +91 84482 65129