मुस्लिमों के दाढ़ी बढ़ाने पर जेल… चीन में जिनपिंग की तानाशाही

ias coaching , upsc coaching

 

 

मुस्लिमों के दाढ़ी बढ़ाने पर जेल… चीन में जिनपिंग की तानाशाही

चीन को अपने तानाशाही रवैये के लिए जाना जाता है. जिसके दोस्त न के बराबर और दुश्मनों की फेहरिस्त लम्बी रही है. चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने इस लिस्ट और आगे बढ़ाया. जिनपिंग की तानाशाही उनके विरोध की वजह बनती रही है. फिर चाहें देश के लोगों के बीच हो या ग्लोबल लेवल पर. अब चीन ने अमेरिकी टेक और विदेशी कंपनियों पर निशाना साधा है.

चीन ने आदेश जारी किया है कि सरकारी एजेंसियों में काम करने वाले लोग ऐपल और विदेशी कंपनियों के फोन न इस्तेमाल करें. इन्हें ऑफिस में लाने भी मना किया गया है. इतना ही नहीं, चैट ग्रुप्स और मीटिंग के लिए भी विदेश कंपनियों के प्लेटफॉर्म न इस्तेमाल करने की बात कही है. ये आदेश ही नहीं, जिनपिंग के दौर में कई ऐसे कानून भी बनाए गए जो चौंकाते हैं. जानिए जिनपिंग के तानाशाही भरे शासन में कैसे-कैसे अजीबोगरीब कानून लागू हैं.

1- कपड़ों पर पाबंदी वाला अजीबो-गरीब कानून लाने की तैयारी
आइफोन पर बैन लगाने के बाद चीन में कपड़ों को लेकर अजीबोगरीब कानून को लाने की तैयारी है. नए बिल से साफ है कि चीन भावनाओं को ठेस पहुंचाने वाले कपड़ों पर बैन लगाएगा. अगर चीन में कोई ऐसे कपड़े पहनता है जिससे किसी की संवेदनाओं को ठेस पहुंचती है तो जुर्माने के साथ जेल की सजा भी होगी. हालांकि, अब तक यह नहीं बताया गया कि आरोपी को कितनी सजा दी जाएगी. कई मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया है कि आरोपी को 15 दिनों के लिए हिरासत में भेजा जाएगा.

2- दाढ़ी बढ़ाई तो होगी जेल
दाढ़ी बढ़ाना या घटाना आमतौर पर इंसान की चॉइस होती है, लेकिन जिनपिंग के चीन में ऐसा नहीं है. चीन में दाढ़ी बढ़ाने पर जेल की सजा हो सकती है. ऐसे कई मामले सामने आए हैं जब ऐसा करने वालों को करीब 6 साल तक सलाखों के पीछे बिताने पड़े. यही वजह है कि इस्लाम धर्म को मानने वाले लोगों के लिए चीन में रहना मुश्किल होता जा रहा है. मुस्लिमों की आजादी और अधिकार को लेकर चीन में लगातार सवाल उठते रहे हैं.

खासतौर पर यह नियम चीन के शिनजियांग में सख्ती से लागू किया जाता है क्योंकि वहां पर मुस्लिमों की संख्या अधिक है. बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक, चीनी सरकार के इस कानून को इस्लाम के खिलाफ बताया जाता है.

3-एडल्ट कंटेंट पर तीन साल की जेल
चीन के लोग क्या देखेंगे और क्या नहीं, यह भी यहां की सरकार तय करती है. अगर कोई भी इंसान उस कंटेंट तक अपनी पहुंच बनाता है जो देश में प्रतिबंधित है तो सरकार सजा दे जा सकती है. इसके अलावा कोई किसी भी तरह का एडल्ट कंटेंट देखा जाता है या मोबाइल में मिलता है तो तीन साल की जेल हो सकती है.

4- जैस्मिन नाम और फूल, दोनों पर प्रतिबंध
चीनी सरकार जैस्मिन के फूलों पर इतनी सख्त है कि वहां की भाषा में इंटरनेट पर इस फूल का नाम भी नहीं नजर आएगा. इस शब्द पर ही प्रतिबंध लगा दिया गया है. बीजिंग समेत कई देश के शहरों के बाजारों में इस फूल को गैरकानूनी घोषित किया गय है. चीनी सरकार ने यह फैसला ट्यूनीशिया-जैस्मिन क्रांति के बाद लिया था.

5- वीडियो गेम पर बैन
चीनी कंपनियां दूसरे देशों में वीडियो गेम लॉन्च करके पैसा तो खूब कमा रही हैं, लेकिन अपनी ही देश में इसे बैन कर रखा है. इतना ही नहीं देश में माइग्रेशन को लेकर भी सख्त नियम है. कोई भी इंसान किसी भी क्षेत्र में बिना सरकार को जानकारी दिए बिना लम्बे समय तक नहीं रह सकता है. अगर कोई इंसान ऐसे क्षेत्र में है जहां का वो स्थायी निवासी नहीं है तो ऐसे में उसे टेम्परेरी रेजिडेंट परमिट बनवाना होगी.

ias coaching , upsc coaching

Leave a Comment

error: Content is protected !!