केके पाठक ने जिलाधिकारियों को लिखा पत्र, शिक्षकों की काउंसलिंग के लिए छुट्टी रद्द करने की मांग

ias coaching , upsc coaching

केके पाठक ने जिलाधिकारियों को लिखा पत्र, शिक्षकों की काउंसलिंग के लिए छुट्टी रद्द करने की मांग

पटना:Bihar Teacher News: शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव केके पाठक की ओर से पत्र लिखा गया. बिहार के सभी जिला पदाधिकारी को पत्र लिखते हुए गया 17 अक्टूबर से बिहार लोक सेवा आयोग द्वारा विद्यालय अध्यापक परीक्षा परिणाम चरणबद्ध तरीके से घोषित किया जा रहा है. अब चरणबद्ध तरीके से लगभग 1 लाख से अधिक शिक्षकों की काउंसलिंग इस विभाग को करानी है. आयोग द्वारा प्रतिवेदित जिले में ही इन अभ्यर्थियों को काउंसलिंग हेतु उपस्थित होना है. उल्लेखनीय है कि इस हेतु पहले ही अपने जिले में इन स्थलों को भी चिन्हित कर लिया है जहां यह अभ्यर्थी उपस्थित होंगे.

यह काउंसलिंग 18 अक्टूबर से लगातार चलती रहेगी जब तक की आपके जिले में सभी चिन्हित अभ्यर्थियों की काउंसलिंग ना हो जाए. यह काउंसलिंग एक समय सारणी के तहत ही की जाएगी. जिस हेतु विभाग ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी की है जो कि इस पत्र के साथ संलग्न है. इस प्रेस विज्ञप्ति में एक अनुलग्नक भी दिया गया है जिसमें अभ्यर्थियों को यह पता रहेगा कि उनको आपके जिले में किस केंद्र पर उपस्थित होना है. इस हेतु जो अभ्यर्थी काउंसलिंग के लिए आते हैं उन्हें एक पत्र दिया जाएगा जिसका प्रारूप भी संलग्न है और उसके बाद यह अभ्यर्थी आपके जिले के शिक्षण संस्थाओं और विद्यालयों में ओरिएंटेशन हेतु भेज दिए जाएंगे. आपसे यह भी अनुरोध है कि जिले में चयनित स्थल जहां पर अभ्यर्थियों की काउंसलिंग होनी है.

पत्र में लिखा गया है कि वहां पर्याप्त संख्या में दंडाधिकारी एवं पुलिस बल्कि प्रतिनियुक्ति करने की कृपया करें ताकि किसी प्रकार की विधि व्यवस्था संबंधी स्थिति न उत्पन्न होने पाए. साथी इस स्थिति को देखते हुए 18 अक्टूबर से 31 अक्टूबर तक शिक्षा विभाग के किसी भी पदाधिकारी और कमी को किसी भी प्रकार की विधि व्यवस्था एवं अन्य प्रकार की ड्यूटी में नहीं लगाया जाए. 18 अक्टूबर से अगले आदेश तक शिक्षा विभाग के जिला स्तरीय एवं प्रखंड स्तरीय सभी पदाधिकारी और कर्मियों की छुट्टी रद्द करने की भी कृपा करें ताकि बिहार लोक सेवा आयोग के विद्यालय अध्यापक अभ्यर्थियों की काउंसलिंग सुचारू रूप से की जा सके.

ias coaching , upsc coaching

Leave a Comment

error: Content is protected !!