27 साल तक जदयू में रहे पूर्वी चंपारण के क्रीम बाबू जन सुराज से जुड़े

ias coaching , upsc coaching

*27 साल तक जदयू में रहे पूर्वी चंपारण के क्रीम बाबू जन सुराज से जुड़े*

*सीतामढ़ी*: पूर्वी चंपारण जिले के जदयू के वरिष्ठ नेता तथा पिपरा विधानसभा क्षेत्र से जदयू के प्रत्याशी रहे कृष्ण चन्द्र प्रसाद कुशवाहा उर्फ क्रीम बाबू सैकड़ों समर्थकों के साथ नानपुर के गौरा गांव स्थित जन सुराज कैम्प में प्रशांत किशोर के समक्ष जन सुराज की सदस्यता ग्रहण की और संस्थापक सदस्य बने। जन सुराज के सूत्रधार प्रशांत किशोर ने उन्हें माला पहनाकर और अंगवस्त्र ओढ़ाकर स्वागत किया। क्रीम बाबू शुरू से नीतीश कुमार के नेतृत्व में राजनीति करते रहे थे। 27 वर्षों तक वे जेडीयू के साथ रहे। वे समता पार्टी के गठन काल से सक्रिय भूमिका में थे तथा
1995 में समता पार्टी के मधुबन विधानसभा से प्रत्याशी बनाए गये थे। वर्ष 2015 में जनता दल यूनाइटेड से पिपरा विधानसभा क्षेत्र से प्रत्याशी बनाए गए, जहां भाजपा प्रत्याशी को सीधी टक्कर दी और मामूली मतों के अन्तर से चुनाव हार गए। जन सुराज में शामिल होने के बाद उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार राजद की गोद बैठ गये हैं, जिससे समाज का कभी भला नहीं होने वाला। मौके पर जन सुराज की ओर से जिला संगठन महासचिव जयमंगल कुशवाहा एवं मुख्य प्रवक्ता संजय कुमार ठाकुर मौजूद थे। वहीं बड़ी संख्या में क्रीम बाबू के साथ जन सुराज में शामिल होने आए उनके समर्थकों ने प्रशांत किशोर को माला पहनाकर जन सुराज में अपनी आस्था जताई।

*हाथ जोड़कर समझा रहा हूं, अपने बच्चों के चेहरे को देखकर वोट करें: प्रशांत किशोर*

जन सुराज के सूत्रधार प्रशांत किशोर ने रुन्नीसैदपुर प्रखंड के ग्रामीणों को वोट की ताकत के बारे में बताया। प्रशांत किशोर ने कहा कि आप अपने बच्चों की पढ़ाई को देखकर, बिहार में फैक्ट्री लगाने और रोजगार के नाम पर वोट करें। उन्नत कृषि के नाम पर वोट करें। अगर, आप ही अपने बच्चों के भविष्य की चिंता नहीं कीजिएगा तो कोई नेता और दल आपके बच्चों व आपके मुद्दों की चिंता नहीं करेगा। ऐसे में आप अपने बच्चों के चेहरे और उनके भविष्य को देखकर वोट करें। बता दें कि बुधवार को प्रशांत किशोर ने गौरा पंचायत के बरती गौरा से पदयात्रा शुरू कर चटगौरा होते हुए बगहारी, टिकौली से मानिक चौक दक्षिण गाँव के एमवीजी हाई स्कूल पहुंचे। इस दौरान इन्होंने कुल दस किलोमीटर की पदयात्रा की।

ias coaching , upsc coaching

Leave a Comment

error: Content is protected !!