प्रदर्शनी के द्वारा भारत के अतीत और निकट भविष्य पर गर्व करने का मिलेगा अवसर*

ias coaching , upsc coaching

*प्रदर्शनी के द्वारा भारत के अतीत और निकट भविष्य पर गर्व करने का मिलेगा अवसर*

*प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय द्वारा तीन दिवसीय स्वर्णिम भारत नव निर्माण आध्यात्मिक प्रदर्शनी एवं सात दिवसीय राजयोग मेडिटेशन शिविर का आयोजन*

सिंघिया बाजार: प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय द्वारा स्थानीय लक्ष्मीनाथ कुटीर में तीन दिवसीय स्वर्णिम भारत नव निर्माण आध्यात्मिक प्रदर्शनी एवं सात दिवसीय राजयोग मेडिटेशन शिविर का उद्घाटन दीप प्रज्ज्वलन द्वारा प्रखंड विकास पदाधिकारी पंकज कुमार शक्तिधर, प्रभारी अंचल पदाधिकारी रंजन कुमार बैठा, प्रखंड प्रमुख बिरजू साहू, वार्ड पार्षद निरंजन सिंह, समस्तीपुर से पधारे ओमप्रकाश भाई, बीके सविता बहन ने संयुक्त रूप से किया।

प्रखंड विकास पदाधिकारी पंकज कुमार शक्तिधर ने कहा कि यह आयोजन निश्चित रूप से प्रखंड वासियों को सकारात्मक जीवनशैली अपनाने के लिए प्रेरित करेगा। यहां बताई जा रही बातों को सुनने व अमल में लाने से जीवन की गुणवत्ता में सुधार आयेगा और यह स्वर्णिम भारत नवनिर्माण की पहल में एक महत्वपूर्ण और सार्थक कदम साबित होगा।

समस्तीपुर से पधारी बीके सविता बहन ने अपने संबोधन में कहा कि भारत को सोने की चिड़िया कहा जाता था। अभी स्वयं निराकार बापू परमपिता परमात्मा शिव ऐसी सोने की चिड़िया स्वर्णिम भारत बनाने का बिगुल फिर से फूंक चुके हैं। विकारों की गुलामी की जंजीरों में जकड़ा यह भारत शीघ्र ही पुनः इन बेड़ियों को तोड़कर आजाद होने वाला है। इन विकारों की गुलामी का ही नतीजा है कि यह भारत पापाचार, भ्रष्टाचार, अनाचार में लिप्त हो चुका है। इससे मुक्त होने की विधि इस प्रदर्शनी के माध्यम से बड़ी ही स्पष्ट रीति से समझाई गई है। यह प्रदर्शनी स्वर्णिम भारत की एक ऐसी झांकी प्रस्तुत करती है जहां मनुष्य का देवी-देवताओं के रूप में वास होगा। सभी का स्वर्णिम चरित्र होगा, स्वर्णिम आहार, व्यवहार और स्वर्णिम संसार होगा। सुख-शान्ति-समृद्धि का पारावार नहीं होगा। प्रकृति सुखदायी होगी, कभी अकाले मृत्यु नहीं होगी, जीवन सभी कलाओं से परिपूर्ण होगा। ऐसे स्वर्णिम संसार में सिर्फ एक अविनाशी खंड भारतखंड ही होगा। ऐसे स्वर्णिम भारत के नवनिर्माण में अपने कदम आगे बढ़ाने एवं वहां के समस्त सुख-वैभव को प्राप्त करने की चाबी इस प्रदर्शनी के माध्यम से सद्ज्ञान के रूप में प्राप्त होगी। अपने महान देश भारत के अतीत और निकट भविष्य पर गर्व करने का अवसर इस प्रदर्शनी को देखकर अनुभव होगा।

समस्तीपुर से पधारे बीके ओम प्रकाश भाई ने सभी आगंतुक अतिथियों का स्वागत किया एवं अपने संबोधन में कहा कि यह समस्त प्रखंड वासियों के लिए सुनहरा अवसर है। तीन दिवसीय प्रदर्शनी रविवार तक प्रतिदिन प्रातः 10:00 बजे से संध्या 6:00 बजे तक चलेगी। साथ ही उन्होंने शनिवार से दोपहर 2:00 बजे से 3:30 बजे तक चलने वाले सात दिवसीय निःशुल्क राजयोग मेडिटेशन शिविर हेतु नामांकन के लिए भी निवेदन किया।

कार्यक्रम को प्रभारी अंचल पदाधिकारी, प्रखंड प्रमुख, वार्ड पार्षद ने भी संबोधित किया।

बीके सविता बहन ने सभी अतिथियों को प्रदर्शनी पर विस्तार से समझाया एवं सभी को ईश्वरीय सौगात दी गई।

कार्यक्रम में मुख्य रूप से बीके कुंदन बहन, जगन्नाथ भाई, राजकुमार भाई, अशोक भाई संजय भाई विजय भाई आदि उपस्थित थे।

ias coaching , upsc coaching

Leave a Comment

ias coaching , upsc coaching
What does "money" mean to you?
  • Add your answer
error: Content is protected !!